🌷 दादूराम सत्यराम 🌷

दादूराम ॥ श्री परमात्मने नम:॥ सत्यराम
॥ श्री दादूदयालवे नम:॥

श्री दादूलीला विहंगावलोकन
भगवदाज्ञा ~ सागर के मध्य में एक टापू पर तीन दिव्य सिद्ध महापुरुष तपस्या कर रहे थे । भारतीय संस्कृति में तप की बहुत बड़ी महिमा बताई गई है । दिव्य शक्ति तथा मुक्ति प्राप्त करने के लिए तप सदैव एक प्रमुख साधन रहा है । सुर – नर – मुनि के तप की बात तो सर्वविदित ही है, महाप्रतापी तथा शक्तिशाली दैत्य – दानव – राक्षस भी तप के द्वारा दुर्लभ वरदान पाकर त्रिलोक विजयी हुए हैं । यहां तक कि ब्रह्मा – विष्णु – महेश को भी सृजन – पालन और संहार की शक्ति तप के द्वारा ही प्राप्त हुई है । यथा ~ ( रा. च. मा. )

तप बल रचई प्रपंचु विधाता । तप बल विष्णु सकल जग त्राता ॥
तप बल संभु करहिं संहारा । तप बल सेषु धरहिं महि भारा ॥

अब अपने विषय पर आइये । सागर के एक टापू पर तीन सिद्ध तप कर रहे थे कि आकाशवाणी हुई – ”आप में से एक संसारी जीवों का उद्धार करने के लिए संसार में जाए ।” इस वाणी को परमात्मा की आज्ञा मानकर तीनों ने विचार किया, फिर एक सिद्ध पुरुष सागर से भवसागर में जाने के उद्देश्य से अदृश्य हो गए । इस प्रसंग में श्री दादूदयालजी महाराज के परम शिष्य श्री राघवदासजी ने (भक्तमाल में) इस प्रकार लिखा है ~

सागर में टापू ता में तीन सिद्ध ध्यान करें ।
एक को जु आज्ञा भई ~ जीव निस्तारिए ॥

निजानंद निज ब्रह्म अपारा । तिनकी आज्ञा सौं तन धारा ॥
सब जीवन की पूरी आसा । भक्ति हेतु हरि कियो बिलासा ॥

इस आध्यात्मिक स्थिति तक अभी वर्तमान विज्ञान नहीं पहुंचा है । जिस दिन ईश्वर की दिव्य लीलाओं का विज्ञान स्वीकार कर लेगा, उसी दिन से वह विशुद्ध विज्ञान के पथ का पथिक हो जाएगा ।
लोधीरामजी को वर प्राप्ति ~ बात वि. सं. 1600 में गुजरात के अहमदाबाद शहर की है । वहां श्री लोधीराम नागर ब्राह्मण रहते थे, जो बड़े सम्पन्न, यशस्वी एवं साधु – संतों के परम भक्त थे । सब सुख होते हुए भी वे दुःखी रहा करते थे क्यों कि 40 – 50 वर्ष की अवस्था हो जाने पर भी वे निस्संतान थे । एक दिन साबरमती नदी में स्नान करके नागरजी घर पर आ रहे थे तभी मार्ग में उन्हें एक परम दिव्यस्वरुप वाले संत के दर्शन हुए । ये महात्मा टापू पर तपस्या क रने वाले उन तीन सिद्धों में से एक थे, जो भगवान के आदेशानुसार संसार का उद्धार करने के लिए वहां से चले थे । उन्हों ने नागरजी से कहा – “विप्रवर ! कल प्रातःकाल जब तुम स्नान क रने के लिए जाओगे तब एक विशद कमल पुष्प तैरता हुआ तुम्हारे निकट आयेगा, उसमें एक दिव्य शिशु लेटा होगा । उसे उठा लेना, वही तुम्हारा पुत्र कहलाएगा ।” इतना कह कर वे संत अदृश्य होगए । लोधीरामजी संत का प्रकट होना, आदेश देना, और अदृश्य होना खड़े – खड़े देखते ही रह गए । कुछ क्षणों में प्रकृतिस्थ हुए, मानो सोकर जागे हों । फिर अत्यंत हर्षित हो जल्दी – जल्दी पैर बढाते हुए नागरजी घर को आए और धर्म – पत्नि को अपना अलौकिक अनुभव सुनाया । ऐसी विलक्षण घटना सुनकर वह भी भाव विभोर होगई और बोली – “दयासागर प्रभु ने हम पर बहुत बड़ी कृपा की । प्रभु ने हमारी कामना पूरी करदी ।”
हर्षातिरेक के कारण लोधीरामजी को उस रात नींद नहीं आई । भावी संतान के सुख की कल्पना तरंगों में वे रात भर हिचकोले खाते रहे । प्रातःकाल होने के बहुत पहले ही वे उठ गए और दैनिक कार्यों से निपट कर स्नान करने के लिए साबरमती नदी की ओर चल पड़े । अभी पौ नहीं फटी थी । वातावरण में अंधेरा था, किन्तु नागरजी को सर्वत्र आशा प्रकाश छिटका हुआ दिखाई दे रहा था । उनकी चाल में पहले की तरह चिन्ता और उदासी नहीं थी, वरन पद – पद पर आनंद, उमंग तथा स्फूर्ति की झलक थी ।
अवतरण ~ नदी तट पर पहुंच कर नागरजी ने बहुत दूर तक दृष्टि दौड़ाई किन्तु उन्हें कुछ न दिखाई पड़ा । तब उन्हों ने जल में प्रवेश किया और कमर तक पानी में खड़े होकर उत्सुक नेत्रों से वे जल – प्रवाह को देखते रहे कि कमल पुष्प आ रहा है या नहीं । फिर भी कमल का कहीं पता न था । अधीर मन में शंका की एक क्षीण रेखा उभरी, किन्तु उनके आस्तिक भाव ने तत्काल उस रेखा को मिटा कर विश्वास जगाया कि एक दिव्य संत के वचन असत्य नहीं हो सकते । वास्तव में, पुत्र पाने की आतुरता में नागरजी यह भूल ही गए कि एक दिव्य शिशु को स्पर्श करने के पहले उनका स्नान करके पवित्र हो जाना बहुत आवश्यक है । भक्त की भूल को भगवान सुधार देते हैं । दैवी प्रेरणा हुई । लोधीरामजी ने श्री हरि कह कर जल में डुबकी लगाई और जैसे ही उन्हों ने अपना सिर बाहर निकाला कि उन्हें एक विशाल कमल पुष्प जल में तैरता हुआ दिखाई पड़ा । उनका चित्त प्रफुल्लित होगया । जब उन्हों ने कमल को अपनी ओर आते देखा तो उनका हर्ष सीमा पार करने लगा । निकट आने पर उन्हों ने देखा कि कमल पर लेटा हुआ शिशु उनकी ओर देखकर मन्द – मन्द मुस्कुरा रहा है । फिर तो नागरजी सुध – बुध भूलकर आनंदमग्न हो गए । नागरजी ने देखा कि वह दिव्य तेजस्वी शिशु अपनी मुस्कान चतुर्दिश बिखेर रहा है । फिर क्या था, लोधीरामजी ने बड़े प्यार से शिशु को उठा लिया ।
नागरजी के हाथों में शिशु के पहुँचते ही आकाशा में देव – गंधर्व – किंन्नर प्रकट होकर जय – जयकार करने लगे । साथ ही में दिव्य पुष्प एवं केशर की वर्षा करने लगे । अप्सराएं नृत्य करती हुई यशोगान करने लगीं । दिव्य वाद्य – यंत्रों की झंकार से सारा वातावरण गुंजारित हो उठा । आसपास में स्नान क रते हुए सभी लोगों ने इस अलौकिक दिव्य दृश्य को देखा और उनके मुख से यह उच्चारण हुआ – “नागर के भाग्य धन्य हैं – नागर के भाग्य धन्य हैं ।” लोधीरामजी समझ गए कि कोई दिव्य विभूति उनको कृतार्थ करने के लिए उनके यहां पधारी है । वे भाव – विभोर होकर भीगे वस्त्रों से ही घर की ओर चले । घर में नागरजी की पत्नी स्नान कर शिशु सहित पति के आने की बाट जोह रही थी । नागरजी ने आकर शिशु को उसकी गोद में दिया । ऐसे तेजस्वी, मनोहर शिशु को देखकर वह हर्ष से भर गई । उसके ह्रदय में वात्सल्य भाव इतने वेग से उमड़ा कि दैवी कृपा से उसके स्तनों में दूध उतर आया । वे उस बालस्वरुप को देखते – देखते भाव विभोर हो गईं । उस शुभ दिन वि. सं. १६०१ की फाल्गुन शुक्ल अष्टमी थी ।
कई दादू जीवनियों में उस दिन चैत्र शुक्ल अष्टमी भी बताते हैं ।
तत्पश्चा त् अत्यंत लाड़ प्यार से बालक का पालन – पोषण होने लगा । बचपन से ही यह बालक तीव‘ बुद्धि का तथा भगवद्भावों वाला था । असाधारण दयालुता उसका विशेष गुण था । उसकी इच्छा सदा दूसरों को देने की ही रहती थी, इसलिए उसका नाम दादू रख दिया गया । इस अवतरण प्रसंग को संतदासजी द्वारा रचित जन्मलीला में इस प्रकार वर्णित किया है –

संवत सोलह सौ लागत ही, गुजरात धरा मधि अहमदाबादू,
ब्रह्म प्रकाश उदय भयो भानु जू, आय दुनि मध्य अवतरे दादू ।
हर्ष उछाह भयो तिहूँ लोक में, गावत यश्श मुनि – सिद्ध – साधू,
शेष, महेश, ब्रह्मा, ध्रुव में, सूर सुयश्श करें संत आदू ॥
गैब को बालक आयो गगन थैं, नदी प्रवाह में खेलत पायो,
पिछले प्रहर नहान गयो विप्र, बालक देखि उठाकर लायो ।
आपनी नारि को आन दियो घर, गैब को दूध प्रवाह बहायो,
गावत मंगल नारि दसों दिश, बांट बधाई उछाह करायो ॥

सदगुरु की प्राप्ति ~ बालक दादू की आयु सात वर्ष की हुई । एक दिन वे अन्य बालककों के साथ कांक रिया तालाब के कि नारे खेल रहे थे । तभी एक परमतेजस्वी संत सहसा वहां प्रगट हो गए । इस आकस्मिक घटना को देख कर दूसरे बालक तो डर के मारे भाग खड़े हुए, किन्तु दादूजी बड़ी प्रसन्नतापूर्वक संत के समीप गए और उन्हों ने श्रद्धा से संत को प्रणाम किया । प्रभु प्रेरणा से आए हुए गुरु – रूप संत दादूजी का श्रद्धा – विनय देखकर हर्षित हो गए और अविलम्ब भक्ति – ज्ञान – वैराग्य का शुभ आशीर्वाद देकर अंतर्ध्यान होगए –

बालपने दर्शन दियो, भगवत् बूढ़न होय ।
नगर अहमदाबाद में, दादू भज तूं मोय ॥

दादूजी को तो भक्ति – ज्ञान – वैराग्य मूलतः प्राप्त था, इसलिए उन्हें गुरु की खोज नहीं करनी पड़ी । सदगुरु ने उनके पास आने की कृपा की और गुरु की कमी पूरी कर दी, क्योंकि सदगुरु की प्राप्ति भी बहुत आवश्यक है । एकादश वर्ष की अवस्था में गुरुदेव ने पुनः दादूजी को दर्शन दिए । यह इस बात का संकेत था कि शिक्षा पूर्ण हो गई और अब दादूजी को चाहिये कि वे दूसरों को शिक्षा – उपदेश दें । यह सब दो सिद्धों का मौन वार्तालाप था ।
ज्ञानपुंज दादूजी ने गुरुदेव के संकेतानुसार श्रद्धालु जनता के समक्ष प्रवचन करना आरम्भ कर दिया । वे निर्गुण ब्रह्म तथा योग की गूढ़ साधना की व्याख्या अत्यंत सरल एवं सर्वग्राह्य भाषा में प्रस्तुत करने लगे । “तत्वमसि”, “सोहं”, “एको हम् द्वितीयो नास्ति” आदि वेद के महावाक्यों का सारगर्भित अर्थ बड़ी सहजता से कर देते थे । उनके अकाट्य तर्क को सुनकर बड़े – बड़े महापंडित विस्मित हो जाते थे । सारा नागर समाज उनपर गर्वान्वित था । प्रवचन के अतिरिक्त दादूजी साखी एवं पदों का प्रयोग भी करते थे । उनकी काव्य – रचना – शक्ति स्वयं – स्फूर्त थी । इसलिए उनके साखी एवं पदों को समझने में साधारण जनता को किसी प्रकार की कठिनाई का अनुभव नहीं होता था ।
स्वतंत्र विचरण ~ एक दिन श्री दादूजी ने सदगुरु की प्रेरणा का अन्तर्मन में अनुभव किया – ‘तुम अपने नगर में ही सीमित न रहो, बाहर निकलो । असंख्य जीवों का निस्तार करने के लिए तुम संसार में आए हो ।’ ऐसी दिव्य प्रेरणा से प्रेरित होकर वे भक्ति का प्रचार करने के लिए अहमदाबाद से निकल पड़े । श्री दादूदयालजी महाराज पेटलाद, आबू पर्वत होते हुए राजस्थान में पहुँचे । वहाँ से करडाला, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़, करौली, सांभर, आमेर, नारायणा, भैराणा तथा सीकरी आदि स्थानों पर श्री महाराजजी ने अपनी दिव्य अमृतमयी वाणी की वर्षा करी । सीकरी में 40 दिनों तक अकबर ने भी इनके सत्संग का लाभ प्राप्त किया । श्री दादूदयालजी महाराज के उपदेशों से हिन्दू एवं मुसलमान दोनों ही सम्प्रदायों में आपसी प्रेम, मैत्री एवं भाईचारे की भावनाओं में वृद्धि हुई । अनेक वर्षों तक आपने ज्ञान तथा भक्ति पूर्ण मधुर प्रवचनों द्वारा श्री दादूजी ने जनसमुदाय को प्रभावित किया तथा लोगों को कल्याण – पथ पर आगे बढ़ाया । साथ ही वे स्वयं अपनी साधना में भी रत रहते थे । कभी – कभी आत्म – रमण के उद्देश्य से श्री महाराजजी दीर्घकाल तक एकान्तवास किया करते थे ।
महामंत्र “सत्यराम” द्वारा अनंत प्राणीमात्र व भूत प्रेतों का उद्धार श्री दादूजी महाराज ने किया । “सत्यराम” महामंत्र इसलिए है कि यह सभी मंत्रों का सार है, तात्विक ज्ञानरुप चारों वेदों ( ऋगवेद, अथर्ववेद, यजुर्वेद, सामवेद ) के रहस्यों सदैव अकीलित है, अक्षुण्ण है, प्रज्वलित एवं नित्य चैतन्य रहनेवाला है । इसमें “राम नाम सत्य है” का रहस्य भी अंतर्निहित है । श्री दादूजी महाराज हठयोग, नाड़ीयोग, सामान्य योग तथा साधन योग इन सब तंत्रों में पारंगत थे और इनके रहस्य को वे सरल सुबोध भाषा में जनता के समक्ष प्रस्तुत भी करते थे । वे जानते थे कि सारे वायुमंडल सहित समस्त प्राणी एक ऐसे अनोखे तंत्र में बंधे हुए हैं जिसमें प्रत्येक कामना की सिद्धि तथा सम्पूर्ति के लिए लाखों मंत्र तंत्र रचे हुए हैं । सभी मंत्रों का रहस्य अनावृत करने वाले श्री दादूदयालजी महाराज ने सर्वसाधारण को “सत्यराम” का ऐसा महामंत्र दिया जिसका महत्व अनिर्वचनीय है और जो निरन्तर दैदिप्यमान रहता है ।
संत शिरोमणि श्री दादूदयालजी महाराज आनंद की वर्षा करते हुए नारायणा पहुँचे । वहां तत्कालीन राजा नारायणदासजी के विशेष आग्रह पर श्री महाराजजी रघुनाथजी के मंदिर में ठहर गए, जहां तीन दिन तक सत्संग का दुर्लभ लाभ राजा तथा प्रजाजनों को प्राप्त हुआ । बाद में श्री महाराजजी ने सात दिन तक त्रिपोलिया के ऊपर एकांत वास किया । आठवें दिन श्री महाराजजी के आसन के निकट एक नाग प्रकट हुआ और फण के द्वारा उन्हें अपने पीछे चलने का संकेत दिया । श्री दादूजी महाराज इसे भगवदाज्ञा समझ कर नाग के पीछे चल पड़े । नाग जल से परिपूर्ण तालाब के ऊपर चला एवं महाराज श्री भी उसके पीछे पधारे । तालाब से होकर नाग एक घने खेजड़ा ( राजस्थानी शमी वृक्ष ) के नीचे रुक गया और उन्हें बैठने का संकेत कर लुप्त होगया । श्री दादूदयालजी महाराज तत्काल इस घटना का आशय समझ गए और पद्मासन लगाकर आत्मचिंतन में लीन होगए । ऐसी आत्म – लीनावस्था में श्री महाराजजी के अंगों से दिव्य तेज विकीर्ण होकर समस्त क्षेत्र को आलोकित करने लगा ।
दैव प्रेरित होकर राजा नारायणदासजी भी प्रजा वर्ग के साथ उसी स्थान पर आ पहुँचे । सबने महाराज श्री के अंगों से निकलता दिव्य तेज देखा और यह भी देखा कि महाराजजी के आस – पास नाना प्रकार के प्राणी घूम रहे हैं जिनमें कुछ के मुख मनुष्य जैसे तथा शरीर का शेष भाग विभिन्न पशुओं जैसा तथा कुछ के मुख पशुओं जैसे तथा शरीर का शेष भाग मनुष्य जैसा था । ऐसा अनोखा दृश्य देख सभी लोग आश्चर्यचकित होगए और कुछ लोग भयभीत भी हुए । तीसरे दिन सारे विचित्र प्राणी लुप्त होगए तथा स्थिति सामान्य होगई । उसी समय श्री दादूदयालजी महाराज के नेत्र खुले और उन्होंने वरदमुद्रा में “सत्यराम” आशीर्वाद दिया ।
वाणीजी की रचना ~ वाणीजी का रचना काल आजसे लगभग 450 वर्ष पूर्व का है । महाप्रभु दादूदयालजी महाराज ने रचना की दृष्टि से कोई स्वतन्त्र काव्य नहीं रचा है; प्रत्युत समय समय पर शरणागत मुमुक्षुजनों को महाराज पध्यमय वाणी में आत्मोपदेश करते, उन्हीं को उनके शिष्यादि ने संग्रहित कर लिए । मोहनदासजी(दफ्तरी), जगन्नाथजी, संतदासजी दादूजी महाराज के अनन्य शिष्य भक्त थे; जो सदा उनकी शरण में रहते थे । शरणागत मुमुक्षुओं को महाप्रभु जो आत्मोपदेश करते, उनको अक्षरशः ये तीनों महात्मा संग्रहित कर लेते थे । उन पध्यों के ‘लिपि-संग्रह’ का कार्य शिष्य मोहनजी दफ्तरी करते थे, मोहनजी की ‘दफ्तरी-संज्ञा’ इसी कारण पडी थी । दादूजी महाराज अपनी साधना में प्रार्थना का स्थान भी रखते थे । समस्त ‘वाणी’ संग्रह को शिष्यवर पंडित जगजीवन जी(दौसा) और रज्जब जी ने क्रमानुसार संकलित किया था । इसी तरह उपदेश, साधना, प्रार्थना के साथ-साथ ‘श्री दादूवाणी’ की रचना होने लगी, जिसको प्रसंगानुसार बाद में रज्जब जी ने प्रकरणों(अंगों-उपांगों) में विभाजित कर क्रमबद्ध किया गया ।
‘वाणीजी’ में दादूजी महाराज के भावों, विचारो तथा निश्चयों का संग्रह है । मुख्यतया इसकी रचना उस समय की बोलचाल की भाषा में की गई है । स्थल विशेषों में अरबी, फ़ारसी, गुजराती, मराठी, सिंधी व् पंजाबी भाषा का प्रयोग हुआ है । इससे सिद्ध होता है कि दादूजी महाराज कई भाषाओँ पर अधिकार रखते थे । ‘वाणीजी’ में सभी तरह के शास्त्रीय, वेदांत, योग, सांख्य, उपनिषद व गीता के सिद्धांतों का प्रकरण-विशेष में अच्छा समन्वय है । इससे प्रतीत होता है कि – जिज्ञासुओं ने महाराज से सभी विषयों पर प्रश्न किये थे, उनका उत्तर आपने बड़ी सुगम व प्रांजल भाषा में दिया है । “दादूवाणी” में माधुर्य की तो अजस्र धारा ही बह चली है ।
अन्त समय में उनके पट्टशिष्य गरीबदासजी ने प्रश्न किया – “स्वामिन् ! आपने ऐसा मार्ग दिखाया है जो हिन्दू मुसलमानों की सीमित सीमा से आगे का है । किन्तु इसका आगे कैसे निर्वाह होगा ?” महाराज ने कहा – “तुम ऐसा विचार मत करो, जो अपने धर्म में रहेंगे उनकी रक्षा राम करेंगे, और तुम विशेष चाहो तो हमारा शरीर रखलो, जो भी पूछना चाहोगे उसी का उत्तर इससे मिलता रहेगा, तथा ऐसा भी न समझो कि वह शरीर खराब हो जायगा, यह पंच तत्व से बना हुआ नहीं है, यह तो दर्पण में प्रतिबिंबित शरीर के समान है । यदि तुम्हें संशय हो तो हाथ फेर कर देखलो ।” गरीबदासजी ने हाथ फेरा तो शरीर दीपक ज्योति सा प्रतीत हुआ, दीखता तो था किन्तु पकड़ने में नहीं आता था । फिर गरीबदासजी ने कहा – “जब आपने ऐसा देह बना लिया तो कुछ दिन इसे और रखने से तो हम शवपूजक कहलाएंगे जो आपके उपदेश के अनुसार उचित नहीं ।” महाराज बोले – “तो फिर यहां एक बिना तेल – घृत और बत्ती के अखंड ज्योति रहेगी उससे तुम्हारे सभी कार्य सिद्ध होते रहेंगे ।” गरीबदासजी ने कहा – “उस ज्योति के महान् चमत्कार को देखकर यहां जनता का आना जाना अधिक रहेगा जो हमारे साधन में पूर्ण विघ्न बनेगा, हम पंडे बन जाएंगे, अतः यह भी ठीक नहीं है ।” गरीबदासजी की निष्कामता देखकर महाराज प्रसन्न हुए और बोले – “जो हमारी वाणी का आश्रय लेकर निर्गुण भक्ति करेंगे, उनकी परब्रह्म रक्षा करेंगे और जो इष्ट – भ्रष्ट होगा, उसे परम – पद नहीं मिलेगा ।”
इसी कारण श्री महाराजजी के महाप्रयाण के बाद उनकी वाणी ही सबसे
अधिक पूज्यनीय सिद्ध हुई । आज भी दादू – सम्प्रदाय के सभी पूजन स्थलों में श्रीवाणीजी का प्रमुख पूजन होता है । कहीं कहीं भक्तजनों ने अपनी भावनानुसार चित्र भी प्रतिष्ठित किए हैं ।
निजस्वरूप में प्रवेश ~ शनैः शनैः तपोमूर्ति श्री दादूदयालजी महाराज के लीला संवरण का समय आ पहुँचा । परमज्योति से ज्योति का मिलन तो अवश्यंभावी है । उस समय श्री महाराजजी नारायणा में विराजमान थे । संत माधोदासजी के अनुसार ~

बासुर होय समीप रहे दिन, आवत पालकी पंथ आकाशा ।
के शर चन्दन छाय सुगन्धित, ल्याय धरे सुर मंदिर पासा ॥

ज्येष्ठ कृष्ण सप्तमी वि. सं. 1660, उस दिन चार दिव्य पार्षद पुरुष पालकी लिए हुए आकाश मार्ग से धरा पर उतरे । सभी शिष्यों ने, राजा नारायणदासजी ने तथा उनकी प्रजा ने इस अदभुत दृश्य को देखा । सबने महाराजजी से पालकी के आने का कारण पूछा तब उन्हों ने कहा
” कल करिहूँ निज लोक प्रवेशा “
दूसरे दिन परम पावन पुण्य तिथि अष्टमी को तीन बार आकाशवाणी द्वारा महाराज श्री को पालकी में बिराजमान होने का निर्देश मिला । श्री महाराजजी शांत भाव से पालकी में बिराजमान हुए । दिव्य पालकी के आने एवं श्री महाराजजी के निजस्वरूप में प्रवेश का समाचार तो पहले दिन ही पूरे क्षेत्र में फैल चुका था । हजारों, हजारों की संख्या में दूर – दूर से आए भक्त गण नारायणा में श्री महाराजजी के दर्शनार्थ एकत्र होगए । एकत्र विशाल जनसमुदाय के सामने ही श्री महाराजजी ने शांत भाव से पालकी में प्रवेश किया । तब दिव्य पार्षद – पुरुषों द्वारा संचालित वह पालकी ऊपर उठ कर आकाश मार्ग से होती हुई धीरे – धीरे भैराणा पर्वत के एक खोल ( वर्तमान दादूखोल ) में पहुँची । सारा शिष्यवृंद तथा विशाल जनसमुदाय भी पालकी के पीछे – पीछे वहां पहुँच गया । दादू खोल में पालकी के स्थित होते ही एक अद्भुत दिव्य दृश्य नभ मंडल में दिखाई पड़ा । देव, गंधर्व, किन्नर आदि प्रकट होकर जय जयकार करते हुए पुष्पके शरकी वर्षा करने लगे, अप्सराएं यशोगान करती हुई नृत्य करने लगीं । ठीक यही दृश्य श्री महाराजजी के प्राकट्य के दिन भी उपस्थित हुआ था और संयोग से उस दिन भी अष्टमी तिथि थी । सारे भक्तजन इस अनोखे दृश्य को देखकर आश्चर्य, आनंद एवं श्रद्धा से प्लावित होगए । तत्पश्चात् अचानक पालकी फिर ऊपर उठी और उड़ती हुई भैराणा पर्वत की एक गुफा ( यहां वर्तमान गुफा मंदिर है ) के द्वार तक गई । पालकी के गुफा में प्रविष्ट होने के पूर्व श्री महाराजजी ने दाहिना कर – कमल वरद मुद्रा में उठाकर उच्च स्वर से “संतों ! भक्तों ! सत्यराम” का उद्घोष किया और पालकी गुफा में अंतर्ध्यान होगई । तभी से दादू सम्प्रदाय में “सत्यराम” महामंत्र का प्रयोग आशीर्वादात्मक तथा अभिवादनात्मक दोनों भावों में किया जाता है । जब भी दादू भक्तों को परस्पर अभिवादन करना होता है या आशीर्वाद देना होता है तब अपने सद्गुरुदेव का स्मरण करते हुए “दादूराम – सत्यराम” का उच्चारण करते हैं, अतः यह श्रेष्ठ अभिवादन है ।
( परम श्रद्धेय श्री दादूदयालजी महाराज की यह संक्षिप्त जीवनी है )

इसके लिए रामदयाल चौधरी गुरु भाई पंकज स्वामी दादू पंथी जी को तहे दिल से धन्यवाद देता हू

🌷दादूराम सत्यराम🌷दादूराम सत्यराम🌷दादूराम सत्यराम🌷दादूराम सत्यराम🌷दादूराम सत्यराम🌷